उड़ान


थे मोड़ कुछ अजीब से,
कुछ सीधे कुछ सजीद से,
पंखों पे भारी थी थकान ,
धीमे से साधी थी मैंने भी एक उड़ान |
कुछ दूर चला तो था में शायद,
थका था रुका भी था शायद,
शाम थी बेरंग सी , चुप सी ,कुछ खामोश सी ,
थक के जब में बैठ गया,
हवा मुझे ही उठा के चल पड़ी |
कहती की अभी तो लक्ष्य दूर है,
थाम के रख परिंदे तू अपनी सांस,
वक़्त है अभी ,
अभी भी छुपा है कहीं पे अटूट विश्वास |
Advertisements
Comments
4 Responses to “उड़ान”
  1. amrita singh says:

    udaan ke parinde

  2. Nidhi Nigam says:

    nice work….!!!

  3. soumyav says:

    wonderful lines..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: