धरती (Earth)


हर कण का अंत होता है
आखिर इस धरती के लहु का भी एक रंग होता है
बेजान खड़े,भले ही बोले न ये धरती
उसके सेहेन शक्ति का भी एक अंत होता है

कब तक यूँ तलवार चलाओगे
काटोगे और खून बहाओगे
अब तो बस करो यह खून खराबा
सुना था मैंने की हवानियत का भी एक अंत होता है

तड़पती सिसकती इस धरती को देखो
क्या बिगाड़ा है इसने तुम्हारा
मिटटी में मिल के देखो कभी
इस धरती का एक रंग भी तुम्हारा होता है

Advertisements
Comments
4 Responses to “धरती (Earth)”
  1. soumyav says:

    very intense and thought provoking

  2. Avinash Sahu says:

    A very intense and thought provoking poem, Good One… Agar hamare maastersaab hote to jarror taarif karte tumhari, hope tumhe hamare hindi ke maastersab yaad hai… 🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: