कवी की कविता


कवी की कविता

धुंदली सी, सफ़ेद सी ,मटमैली सी
कभी गुनगुनाये तो कभी मुश्कुराए
छोटे छोटे हजारों सपने दिखाये
कभी टूटी नींद सी रात भर जगाये
हसाए और फिर जोर से रुलाये
रिमझिम बारिश सी इतराए
छुईमुई सी कलम देख शर्माए
चुपके से कानो में कुछ प्यारा सा शब्द कह जाये
फिर जोर से गले लगाये और अपनाये…
कवी की कविता
उसकी पहली और आखिरी सहेली
प्यारी सी , गुमसुम सी, मासूम सी
कभी अजनबी तो कभी सिर्फ एक पहचान सी
अनजान और बदनाम सी
आँखों से टपकती अश्क सी
मंजिल सी, फिर भी राह सी
ख्याल सी, एक अनकही बात सी
वीरान सी, और एक परिवार सी …
कवी की कविता
एक उलझी विचार सी ….
Advertisements
Comments
One Response to “कवी की कविता”
  1. NIdhi Nigam says:

    hey..!! thats really good…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: